Monday, June 8, 2009

फ़िर टेंशन ? टेंशन ही टेंशन


आप बहुत टेंशन में थे, बीवी ने जल्दी बुलाया था घर पर आप लेट हो गए आपको टेंशन हो रही थी कि घर पर क्या होगा, रास्ते में आपसे लड़की ने लिफ्ट मांगी, आपने इंसानियत के नाते लिफ्ट दे दी मगर वो एक लड़की थी इसलिए आपको टेंशन हो रही थी। रास्ते में लड़की की तबियत ख़राब हो गई। आपको फिर टेंशन। आप उसको हॉस्पिटल ले गए। डॉक्टर बोला- आप बाप बनाना वाले हो, आपको और टेंशन। आप बोले- मैं इनका बाप नही हूँ। आप लड़की से पूछ लो। फिर लड़की बोली- यही इस बच्चे का बाप है। आपको और टेंशन। फिर पुलिस आई, आपका मेडिकल करवाया, रिपोर्ट आई कि आप तो कभी बाप बन ही नही सकते। आप ने भगवान का शुक्रिया अदा किया और आप खुशी खुशी बाहर आ गए और फिर सोचा कि घर पर जो दो बच्चे है... वो किसके है ??? ...आपको फिर से टेंशन।
क्या सोच रहे हो ??? वो आप नही हो.... हा...हा...हा...हा...

3 comments:

अजय कुमार झा said...

बहुत खूब...घर जा के बीवी से पूछा ...अबता किसके बच्चे हैं....बीवी ने पडोसी का नाम बताया...आपको फिर टेंशन....आपने पडोसी से पोछा...पडोसी ने कहा...मैं अकेला थोड़े ही था....उफ़ टेंशन ही टेंशन...और गुदगुदी बढ़ती गयी.....

राजीव तनेजा said...

हा...ह्हा...हा....ह्हा....ह्हा...


बहुत ही मज़ेदार

vishvendra said...

choudhary